देहरादून-दिल्ली एक्सप्रेस-वे में देखने को मिलेगा अद्भुत नज़ारा, वन्यजीवों का रखा गया है विशेष ध्यान

Edevbhoomi
देहरादून-दिल्ली एक्सप्रेस-वे में देखने को मिलेगा अद्भुत नज़ारा, वन्यजीवों का रखा गया है विशेष ध्यान

कहते हैं पर्यावरण है तो हम हैं । इसलिए आज के समय में वन्य जीवों की सुरक्षा के लिए लिए कई कदम उठाये जा रहे हैं । वन्य जीवों के संरक्षण के लिए नए नए कानून भी बनाये जा रहे हैं । इसी के तहत दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेस-वे के बिच में आने वाले जंगल व् इनमे रहने वाले जीव जंतुओं के लिए वन्यजीव गलियारे को शामिल किया गया है  ।

इसके अंतर्गत एशिया के सबसे लंबे और ऊंचे वन्यजीव गलियारे का निमार्ण किया जा रहा है। दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेस-वे के निर्माण में वन्यजीवों का विशेष ध्यान रखा जाएगा। जिससे इसकी जीवन पर वन्य जीवों पर इस एक्सप्रेस-वे का काम से काम असर हो . वहीं इस निर्माण के बीच वन्यजीवों का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

वन्य जीवों का रखें जाएगा पूरा ध्यान

आपको बता दें दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेस-वे का जोरों शोरों से निर्माण हो रहा है। इस बात का पूरा ध्यान रखा जा रहा है कि वन्यजीवों को इस निर्माण कार्य से कोई भी समस्या ना हो। राजाजी नेशनल टाइगर रिजर्व क्षेत्र में परियोजना से होने वाले दुष्परिणामों को कम करने के लिए अधिक से अधिक ग्रीन एरिया को बढ़ाया जाएगा।

Delhi-Dehradun Economic Corridor | All you need to know about the project | India News – India TV

इसके साथ ही एक्सप्रेस-वे में निश्चित दूरी पर एंबुलेंस तैनात की जाएंगी। दरअसल क्रासिंग के दौरान मोटर वाहनों से टकराने पर कई वन्यजीवों की मौत हो चुकी है इसलिए भविष्य में अगर कभी हादसा होता है तो घायल पशु को समय पर रेस्क्यू सेंटर पहुंचाया जा सके। परियोजना के तहत पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट की ओर से बनाई गई ओवरसाइट कमेटी भी इस पर बराबर नजर रख रही है।

TNPSC Current affairs, Monthly TNPSC Current affairs,TNPSC Portal Current affairs in English

बीते दिनों नई दिल्ली में कमेटी के अध्यक्ष वन महानिदेशक व विशेष सचिव चंद्र प्रकाश गोयल की अध्यक्षता में हुई बैठक में परियोजना के तमाम पहलुओं पर चर्चा की गई। इस बैठक में उत्तराखंड वन विभाग और एनएचएआई के अधिकारियों ने भी भाग लिया।

 

एशिया का सबसे लंबा वन्य जीव गलियारा

एक्सप्रेस-वे के तहत एशिया के सबसे लंबे और ऊंचे वन्यजीव गलियारे का निमार्ण किया जा रहा है। यह एशिया का सबसे लंबा वन्य जीव गलियारा होगा जिसकी लंबाई 12 किमी है। इसके साथ ही इसमें 340 मीटर की डाट काली सुरंग भी शामिल है। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि पूरे एरिया को ग्रीन कवर करने के लिए ईको रेस्टोरेशन प्लान पर काम किया जा रहा है।

Wild Wonderful World | The Power of Connectivity

वहीं वन्यजीव गलियारे का आखिरी 20 किमी का हिस्सा राजाजी टाइगर रिजर्व पर्यावरण-संवेदनशील क्षेत्र से होकर गुजरता है, जहां मोबाइल कनेक्टिविटी की दिक्कत है। इस दिक्कत को दूर करने के लिए भी बैठक में चर्चा की गई है। एनएचएआई के अधिकारियों से फ्लाईओवर के साथ ही छोटे-छोटे मोबाइल टावर लगाने के निर्देश दिए गए।

Delhi-Dehradun Highway Corridor Approved. Reduces Travel Time By 50%
image credit : go machanic

इसी क्षेत्र में 340 मीटर लंबी डाट काली सुरंग भी शामिल है, जिसका काम पूरा कर लिया गया है। इसके अलावा फ्लाई ओवर में लाइट एवं साउंड बैरियर भी लगाए जाएंगे। करीब 12,300 करोड़ की लागत से बनने वाले 210 किमी लंबे एक्सप्रेस-वे को दिसंबर 2023 तक पूरा किया जाना है।

 

उत्तराखंड की सभी रोचक व् नयी जानकारी के लिए ई- देवभूमि के WHATSAPP GROUP से जुडिए Whatsapp, logo Icon in Social Media
उत्तराखंड की सभी रोचक व् नयी जानकारी के लिए ई- देवभूमि के TELEGRAM GROUP से जुडिए Telegram icon - Free download on Iconfinder

 

Share This Article
Follow:
नमस्कार दोस्तों , हमारे ब्लॉग इ-देव भूमि पर आपका स्वागत है । edevbhoomi.com एक लोकल इनफार्मेशन पोर्टल है जिसके माध्यम से आप, देव भूमि उत्तराखंड के मुख्य जिलों जैसे देहरादून, गढ़वाल , कुमायूं, उधमसिंह नगर , सितारगंज तथा दूरस्थ ग्रामीण इलाकों के बारे में सभी महत्वपूर्ण लोकल जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।