|

RTO ने तैयार किया मास्टरप्लान, देहरादून समेत इन शहरों से ई-रिक्शा को किया जायेगा बाहर; देखें सभी रूट

बढ़ती ट्रैफिक जैम की समस्या में सुधार के लिए RTO अब उठाने जा रहा है एक बड़ा कदम। ई-रिक्शा संचालन का ड्राफ्ट भी सम्भागीय परिवहन विभाग ने तैयार कर लिया है जिसके तहत ई-रिक्शा अब शहर के बाहरी क्षेत्रों में ही चल सकेंगे। शहर के मुख्य मार्गो पर ई-रिक्शा के संचालन को रोक दिया जाएगा, क्यूंकि इनकी वजह से ट्रैफिक जाम की समस्या बढ़ती जा रही है।

देहरादून के अलावा ऋषिकेश-विकासनगर, हरिद्वार और रुड़की में 19 हजार इ-रिक्षाओं को मुख्या मार्गो से हटाकर मुख्या मार्गो से दूर बाहरी क्षेत्र तय किये जाएंगे। जुलाई में हुई सम्भागीय परिवहन प्राधिकरण (आरटीए) की एक बैठक में क्षेत्र तय करने का फैसला लिया गया था।

जुलाई में सम्भागीय परिवहन प्राधिकरण (आरटीए) की बैठक में ई-रिक्शा के क्षेत्र तय करने का फैसला लिया गया था। विभाग द्वारा बनाई गई समिति ने पांच शहरों में मुख्य रूटों पर ई-रिक्शा को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने की सिफारिश की थी जिसमें ई-रिक्शा कहाँ चल सकेंगी उनके लिए 5 शहरों में क्षेत्र तय किये गए हैं।

यह कदम ई-रिक्शा से होती ट्रैफिक समस्या को देखते हुए लिया गया है, ये ज़रूरी है की ई-रिक्शा पर नियंत्रण रखा जाए क्यूंकि ये साफ तौर पर देखा गया है ई-रिक्शा से भी ट्रैफिक समस्या में  बढ़ोतरी हो रही है।

ये समस्याएं देश के उन सभी शहरों में हैं जहाँ ई-रिक्शा चलती हैं इसके चलते कुछ बड़े शहर जैसे लखनऊ, कोलकाता, कानपुर, दिल्ली और अन्य शहरों में ई-रिक्शा के संचालन के लिए मार्ग तय किये गए हैं। कुछ जगह पर ई-रिक्शा के पंजीकरण  पर रोक लगा दी गयी है। दिल्ली के 236 रूटों पर ई-रिक्शा के संचालन पर प्रतिबंधित लगा है।

RTO विभाग के सुनील शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया की RTO द्वारा तैयार किया गया ड्राफ्ट देहादून समेत 5 शहरो के लिए है, इस ड्राफ्ट में किन क्षेत्रों में ई-रिक्शा संचालन प्रतिबंधित रहेगा और इनके संचालन के लिए नए क्षेत्र तय किए गए है इसका उल्लेख है।

जानिये इन 5 शहरों में कहाँ चल सकेंगी ई-रिक्शा और कहाँ रहेगा प्रतिबंधित-

1. देहरादून –  वर्त्तमान में यहाँ 4400 ई-रिक्शा चल रही हैं

क्षेत्र जहाँ ई-रिक्शा चलने की अनुमति रहेगी:

डिफेंस कॉलोनी, डालनवाला, कंडोली, दून यूनिवर्सिटी क्षेत्र, कैंट रोड, टर्नर रोड, ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी क्षेत्र, बालावाला, मोथरोवाला, ब्राह्मणवाला

प्रतिबंधित क्षेत्र:

रायपुर से लाडपुर-सहस्रधारा क्रॉसिंग-सर्वेचौक-घंटाघर

गढ़ी कैंट डाकरा चौक सेबल्लूपुर-बल्लीवाला-जीएमएस रोड

आईएसबीटी-कारगी चौक-रिस्पना-मोहकमपुर-हर्रावाला तक

मोहब्बेवाला सेआईएसबीटी-पटेलनगर-सहारनपुर चौक-घंटाघर-दिलाराम चौक सेमसूरी बाईपास

सुभाष रोड, लक्ष्मी रोड, रिंग रोड और आराघर रोड

2. ऋषिकेश – वर्त्तमान में यहाँ 1300 ई-रिक्शा चल रही हैं

क्षेत्र जहाँ ई-रिक्शा चलने की अनुमति रहेगी:

श्यामपुर चौकी से हनुमान मंदिर कालेकीढाल-चंद्रभागा पुल तक

कोयलघाटी से एम्स-सीमा डेंटल-आईडीपीएल गेट-2 तक, डोईवाला, भानियावाला, जौलीग्रांट

रानीपोखरी, भोगपुर, खदरी बापूग्राम, श्यामपुर, भट्टोवाला, छिद्दरवाला, चकजोगीवाला और अठूरवाला

प्रतिबंधित क्षेत्र:

मोतीचूर फ्लाईओवर से रायवाला

नेपाली फार्म-लालतप्पड़-लच्छीवाला टोल से मोहकमपुर तक

नेपाली फार्म से श्यामपुर चौकी-गुमा गु नीवाला-एआरटीओ कार्यालय ऋषिकेश

चौदहबीघा-भद्रकाली-तपोवन तिराहा और डांडी-सात मोड़ सेनटराज चौक तक

3. हरिद्वार – वर्त्तमान में यहाँ 8136 ई-रिक्शा चल रही हैं

क्षेत्र जहाँ ई-रिक्शा चलने की अनुमति रहेगी:

सिडकुल से शिवालिक नगर, ज्वालापुर से कनखल, बैकुंठ धाम से भारत सदन, जगजीतपुर से गोकुलधाम,  हरिपुरकलां से भीमगौड़ा।

प्रतिबंधित क्षेत्र:
हरकी पैड़ी से रेलवे स्टेशन-बस स्टेशन।

रानीपुर मोड़-मॉडल कॉलोनी-शारदानगर-ज्वालापुर तक।

रेलवे स्टेशन-रानीपुर मोड से भगवंत सिंह चौक से रोशनाबाद तक।

4. रूड़की – वर्त्तमान में यहाँ 4200 ई-रिक्शा चल रही हैं

क्षेत्र जहाँ ई-रिक्शा चलने की अनुमति रहेगी:

राजेंद्रनगर, नेहरूनगर, शिवाजीनगर, मोहनपुर, डिफेंस कॉलोनी, सुभाषनगर, गांधीनगर, आंबेडकरनगर, भारतनगर, अशोकनगर, महिग्राम, सोलमन कॉलोनी, पठानपुरा, नंद विहार, रामपुर, विभावेदी, मंगलौर।

प्रतिबंधित क्षेत्र:

एनएच 334-ए पर लक्सर-सुल्तानपुर-भोगपुर-कनखल तक

एनएच 334 पर नारसन-मंगलौर-रुड़की-बहादराबाद तक

रुड़की सेसलियार-भगवानपुर तक

5. विकासनगर – वर्त्तमान में यहाँ 1200 ई-रिक्शा चल रही हैं

क्षेत्र जहाँ ई-रिक्शा चलने की अनुमति रहेगी:

खेरा मार्ग, बाबा अजीत सिंह मार्ग, डाकपत्थर रोड, कालसी रोड , पहाड़ी गली, विद्यापीठ मार्ग, पंचमीवाला रोड, जीवनगढ़, मेहूंवाला।

प्रतिबंधित क्षेत्र:

एनएच-7 पर कुल्हाल रूट और ढालीपुर-हरबर्टपुर-सहसपुर तक

एनएच 507 पर धर्मावाला से हरबर्टपुर-बाबूगढ़-रसूलपुर तक

विभाग के इस ड्राफ्ट को डीएम-एसएसपी और नगर आयुक्त को भेजा जाएगा, जो इसके संशोधन के बाद अगर ज़रूरी लगा तोह ई-रिक्शा के संचालन हेतु नए क्षेत्र जुड़वाँ सकते हैं जिसके बाद आरटीए की बैठक में इसको पास किया जाएगा और फिर आगे एसटीए के माध्यम से शासन को भेजा जाएगा। शासन की मंजूरी के बाद इस नए प्लान को लागू किया जाएगा । ई-रिक्शा की संख्या को नियंत्रित करने का प्रस्ताव भी शासन को भेजा जाएगा।

इसके अलावा, जिन क्षेत्रों में ई-रिक्शा चलेंगे उस क्षेत्र का नाम या कोड ई-रिक्शा पर अंकित किया जाएगा जिससे लोगों को उनके प्रत्येक क्षेत्र के ई-रिक्शा स्थान का पता चलेगा जिससे लोगों को यातायात में सुविधा होगी।

इस प्लान से न केवल शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या का समाधान होगा, बल्कि बाहरी इलाकों के लोगों को भी सुविधा मिलेगी जहाँ पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा अभी तक पर्याप्त नहीं है।

Similar Posts