Join Group☝️

उत्तराखंडधार्मिक स्थलयात्रा

Kainchi Dham Ashram: भीड़-भाड़ से शान्ति और अध्यात्म की छाओं चाहते हैं तो चले आइये कैंची धाम, यहाँ पाइये नीम करौली बाबा का आशीर्वाद

Kainchi Dham Ashram: कैंची धाम नैनीताल उत्तराखंड का एक धार्मिक स्थल है। यह भवाली-अल्मोड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है, और यह एक बहुत ही शांत और सुंदर जगह है।कैंची धाम नैनीताल में एक मंदिर है जिसकी स्थापना दिव्य पुरुष नीम करोली बाबा ने की थी। इसे हनुमान गढ़ी नैनीताल के नाम से भी जाना जाता है।

यह जगह एक ऐसी जगह है जहां आप शांति और शांति पा सकते हैं। यह हनुमान मंदिर समुद्र तल से करीब 1951 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। लोग यहां सच्चे मन से मनोकामना करने आते हैं, यह विश्वास करते हुए कि हनुमान उनकी मदद करेंगे। Kainchi Dham Ashram

कैंची धाम (Kainchi Dham Kaise Jaye) कैसे पहुंचे - संपूर्ण जानकारी - Shukratal.in

इस मंदिर का निर्माण 1953 में नीम करौली महाराज ने करवाया था। पहाड़ी के दूसरी ओर शीतला माता का मंदिर स्थित है और इन दोनों में भक्तों की काफी आस्था है। Kainchi Dham Ashram
Kainchi Dham Temple: नीम करोली बाबा से जुड़ी ऐसी जगह, जहां जाकर स्टीव जॉब्स को आया था एप्पल लोगो का आइडिया - nainital kainchi dham mandir famous for neem karoli baba ashram


हनुमान गढ़ी मंदिर के प्रबंधक एमपी सिंह ने हमें बताया कि नीम करौली महाराज 1950 में मंदिर आए थे. उसके बाद बाबा और उनके अनुयायियों ने यहां कुटिया बना ली.

 

 

1953 में कुटिया के पास हनुमान जी की एक मूर्ति स्थापित की गई और 1954 में बाबा ने मंदिर में हनुमान जी की एक बड़ी  मूर्ति स्थापित की। Kainchi Dham Ashram

नैनीताल :बाबा नीम करौली महाराज के पुत्र के निधन से भक्तों में शोक की लहर - Uttarakhand News : Baba Neem Karoli Son Died - Amar Ujala Hindi News Live

1955 में, बाबा ने हनुमान गढ़ी धाम के पास भगवान शिव का एक मंदिर बनवाया। 1956 और 1957 के बीच, बाबा ने हनुमान गढ़ी धाम में भगवान विष्णु का एक मंदिर बनवाया। Kainchi Dham Ashram

ऐसे बना था नीमकरौली महाराज का कैंची धाम मंदिर - Kafal Tree


बताया जाता है  नीम करौली बाबा के बारे में बताया। 1950 में जब बाबा यहाँ आए तो हनुमान गढ़ी के पास शीतला माता मंदिर में बच्चों की मौत के बाद उन्हें दफनाया गया। इसलिए यहां कोई नहीं आता था और यह जगह पूरी तरह सुनसान थी। लेकिन 1953 में जब मंदिर बनकर तैयार हुआ

 

 

तब बाबा ने  पहला भंडारा करवाया था। उस समय यहां पानी और सामान लाने का कोई साधन नहीं था, लेकिन बाबा की शक्ति के कारण सब कुछ यहाँ   पहुंच गया। Kainchi Dham Ashram

Neem Karoli Baba - Kainchi Dham: A Date With The Saint - Rishikesh Day Tour

 

बाबा ने अपने सेवकों से कुटिया के पास गड्ढा खोदने को कहकर उसमें पूरी डालने को कहा। लेकिन सेवकों को आश्चर्य हुआ जब बाबा एक ऐसे स्थान पर बड़ा भंडारा करने की तैयारी कर रहे थे जो बिल्कुल सुनसान था। भंडारा शुरू हुआ और अचानक प्रसाद लेने के लिए बच्चों की भारी भीड़ जमा हो गई।

 

 

बाबा से प्रसाद पाकर गांव के सभी बच्चे अचानक गायब हो गए। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों का मानना ​​है कि गायब हुए बच्चे वही थे जिन्हें शीतला माता मंदिर और बाबा के पास दफनाया गया था. बाबा की चमत्कारी लीला ने सभी बच्चों की आत्मा को मुक्त कर दिया। Kainchi Dham Ashram

Advertisement
Back to top button
दून की शैफाली ने होम डेकॉर को दिया नया रूप , देखकर बन जायगा आपका दिन उत्तराखंड के इस अद्भुत मंदिर में पातालमुखी हैं शिवलिंग,यही माता सती ने त्यागे थे प्राण इस मतलबी दुनिया में ये बैंक भर रहा है भूखे,असहाय लोगों का पेट , हल्दवानी के इस बैंक को आप भी कीजिये सलाम सिलबट्टे को पहाड़ी महिलाओं ने बनाया स्वरोजगार , दिया खाने में देशी स्वाद का तड़का श्री नानकमत्ता साहिब गुरुद्वारा है सिखों का तीसरा सबसे पवित्र तीर्थ स्थल, जानिए क्या इसकी खासियत