Join Group☝️

उत्तराखंड में प्लास्टिक बैन होने पर सब्जी वाले की अनोखी पहल, जानकार आप भी करेंगे तारीफ़

पर्यावरण व् देश को प्लास्टिक से होने वाले नुक्सान के बारे में हम सब जानते हैं इससे बचने देव  भूमि उत्तराखंड में भी का है । कई राज्यों में पॉलीथिन और प्लास्टिक पर बैन लगाया जा चूका है। उत्तराखंड उनमे से ही एक है । प्लास्टिक बैन होने से सामान एंव सब्जी लेने  वाले ग्राहकों तथा देने में दुकानदारों दोनों को ही परेशानियों का  का सामना करना पड़ रहा है।

इसी प्रॉब्लम के समाधान के लिए  नैनीताल के तल्लीताल स्थित एक सब्जी विक्रेता ने ग्राहकों को सब्जी उपलब्ध कराने के लिए एक नया तरीका निकाला है। आइये अब हम आपको सब्जी विक्रेता भाईसाहब  के नयी पहल के बारे में बताते हैं-

बीस रुपये में मिलता है कपड़े का थैला

सब्जी विक्रेता भाईसाहब  अपनी दुकान पर आने वाले सभी ग्राहकों को सामान के साथ बीस रुपये का कपड़े का थैला उपलब्ध करते है।  जिसे ग्राहक अगले दिन दुकान पर वापस करसकते हैं और अपने बीस रूपए वापस ले सकते हैं।

बीस रुपये में मिलता है कपड़े का थैला
बीस रुपये में मिलता है कपड़े का थैला

पॉलिथीन बंद होने के बाद ग्राहकों को सब्जी व्ले अन्य सामान ले जाने में  काफी दिक्कतें  आ रही है । कई लोग आफिसों से लौटते वक्त भी सब्जी ले जाते हैं ।

सबके लिए है प्रेरणा

पॉलिथीन बंद होने ग्राहकों की इस समस्या को देखते हुए उन्होंने कपड़े के मजबूत थैले बनवाकर उनकी इस समस्या का जो  समाधान सब्जी विक्रेता भाईसाहब  निकाला हैं।  वो सभी के लिए एक प्रेरणा है ।

सबके लिए है प्रेरणा 
सबके लिए है प्रेरणा

 

ग्राहक को कोई नुक्सान नहीं

इस पहल से ग्राहक को कोई नुक्सान नहीं  होता है। क्यूंकि जब  ग्राहक ज्यादा सब्जी लेता है उसे 20 रुपये में यह थैला दिया जा रहा है इसके साथ ही अगले दिन अगर ग्राहक चाहे तो थैला वापस करके 20 रुपये वापस भी ले सकता है।

ग्राहक को कोई नुक्सान नहीं
ग्राहक को कोई नुक्सान नहीं

पॉलीथिन के स्थान पर  कागज  का इस्तेमाल उतना कारगर नहीं  रहता क्यूंकि अधिक सामान होने पर  थैली फट जाती है तथा सब्जी गिर जाती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
दून की शैफाली ने होम डेकॉर को दिया नया रूप , देखकर बन जायगा आपका दिन उत्तराखंड के इस अद्भुत मंदिर में पातालमुखी हैं शिवलिंग,यही माता सती ने त्यागे थे प्राण इस मतलबी दुनिया में ये बैंक भर रहा है भूखे,असहाय लोगों का पेट , हल्दवानी के इस बैंक को आप भी कीजिये सलाम सिलबट्टे को पहाड़ी महिलाओं ने बनाया स्वरोजगार , दिया खाने में देशी स्वाद का तड़का श्री नानकमत्ता साहिब गुरुद्वारा है सिखों का तीसरा सबसे पवित्र तीर्थ स्थल, जानिए क्या इसकी खासियत