बेटी की पढ़ाई के लिए परिवार से लड़ गयी अनपढ़ माँ, बच्चों को ट्यूशन पढ़ा बेटी बनी आईएएस, सच किया माँ का सपना 

Edevbhoomi
Bageshwar's DM in IAS Anuradha Pal success story

देवभूमि उत्तराखंड प्रतिभाशाली लोगों से भरी हुई है। विपरीत परिस्थितियों के बाद भी आपको यहां ऐसे उदाहरण देखने को मिलते हैं जिससे कोई भी प्रेरणा ले सकता है। उत्तराखंड के युवाओं में मेहनत करने की एक अलग ही लगन है जो उन्हें हर किसी से अलग बनाती है।

आज हम आपको उत्तराखंड की एक ऐसी युवा के बारे में बता रहे हैं। जिन्होंने परिवार की माली हालत खराब होते हुए भी अपने सपनों को पूरा करने के लिए जी जान से मेहनत की, और सफलता की ऊंचाई पाई जिसे सभी सुख-सुविधाओं से बच्चे भी आसानी से प्राप्त नहीं कर पाते हैं।

हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के बागेश्वर जिले की जिला अधिकारी अनुराधा पाल के बारे में जी हां आज के अनुराधा जो एक आईएएस ऑफिसर हैं उन्होंने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया है। लेकिन चुनौतियों का सामना करने के बावजूद, उन्होंने हार नहीं मानी और न केवल एक आईएएस अधिकारी बनीं, बल्कि वर्तमान में राज्य के एक जिले की जिलाधिकारी के रूप में भी कार्यरत हैं।

IAS Anuradha Pal: अनपढ़ माँ ने घर वालों से लड़कर बेटी को पढ़ाया और बेटी अपनी मेहनत के दम पर बन गयी कलेक्टर , इनका संघर्ष जानकर हार मानना भूल जायेंगे -

गौरतलब है कि बागेश्वर की 19वीं जिलाधिकारी आईएएस अनुराधा मूल रूप से राज्य के हरिद्वार जिले के एक छोटे से गांव की रहने वाली हैं. आईएएस अनुराधा पिथौरागढ जिले की मुख्य विकास अधिकारी के पद पर सफलतापूर्वक कार्य कर चुकी हैं।

पिता बेचते थे घर-घर जाकर दूध

परिवार की विपरीत स्थितियों के बाद भी उन्होंने अपना  आईएएस अधिकारी बनने के अपने लक्ष्य को पूरा किया। उत्तराखंड की 2016 बैच की आईएएस अधिकारी अनुराधा पाल ने अपने सपनों को पूरा करने की जिम्मेदारी अपने गरीब माता-पिता पर नहीं डाली। एक गाँव में एक साधारण पृष्ठभूमि से आने के बावजूद, अनुराधा के पिता दूध बेचकर परिवार का भरण-पोषण करते थे।

विपरीत परिस्थियों के बाद भी उत्तराखंड की ये बेटी बनी कलेक्टर , पिता बेचते थे घर घर दूध

परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण एक समय ऐसा भी आया जब उन्हें पढ़ाई छोड़ कर शादी कर लेने के लिए कहा गया। परंतु उनकी मां ने बेटी की शादी का विरोध करते हुए उसको आगे की पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किया और परिवार वालों से लड़कर बेटी की पढ़ाई जारी रखी।

अपने बच्चों को ट्यूशन पढ़ा कर की तैयारी

अनुराधा ने अपनी शिक्षा जवाहर नवोदय विद्यालय हरिद्वार से पूरी की और इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। अनुराधा ने स्नातक करने के बाद महिंद्रा टेक में काम किया, और बाद में कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी रूड़की में व्याख्याता बन गईं, जहां वह तीन साल तक रहीं।

बागेश्वर:नव नियुक्त डीएम(DM) अनुराधा पाल ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद की पत्रकार वार्ता,देखिए क्या हैं प्राथमिकता? विडियो - Devbhoomi Khabar Network

अनुराधा ने नौकरी छोड़कर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने का फैसला किया। उन्होंने बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर पैसे जुटाए और इसका इस्तेमाल दिल्ली में अपनी कोचिंग क्लास की फीस भरने के लिए किया। उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में सफलता हासिल की. 2012 में, वह पहली बार यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुए और 451 रैंक हासिल की, जिससे उन्हें आईआरएस अधिकारी बनने का अवसर मिला।

2015 में यूपीएससी में पाई सफलता

दो साल तक इस भूमिका में काम करते हुए उन्होंने आईएएस अधिकारी बनने के लिए अपनी तैयारी भी जारी रखी। चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद, उत्तराखंड की ये बेटी  कलेक्टर बन गई।  बार-बार असफलताओं का सामना करने के बावजूद, उन्होंने हार नहीं मानी और 2015 में फिर से यूपीएससी परीक्षा का प्रयास किया।

अनुराधा पाल द्वारा मुख्य विकास अधिकारी पिथौरागढ़ के पद पर अपना कार्यभार ग्रहण किया गया -

इस बार, उन्होंने 62 की अखिल भारतीय रैंक हासिल की और सफलतापूर्वक आईएएस अधिकारी बन गए। अपने दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के माध्यम से, वह अंततः सिविल सेवा परीक्षा 2015 में हिंदी माध्यम में शीर्ष स्कोरर बन गईं। अनुराधा अपनी सारी सफलता का श्रेय अपनी मां को देती हैं और कहती हैं कि वह अपनी मां के सहयोग के कारण ही आज अपना मुकाम हासिल कर पाई हैं।

अपनी ईमानदारी और समर्पण के लिए जानी जाने वाली आईएएस अनुराधा पाल वर्तमान में बागेश्वर की डीएम के रूप में कार्यरत हैं। हालाँकि, उनकी सफलता की राह बहुत आसान नहीं थी, क्योंकि उन्हें कई चुनौतियों और कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। कठिनाइयों के बावजूद, अनुराधा पाल कायम रहीं और आईएएस अधिकारी बनने का अपना लक्ष्य हासिल किया।

Share This Article
Follow:
नमस्कार दोस्तों , हमारे ब्लॉग इ-देव भूमि पर आपका स्वागत है । edevbhoomi.com एक लोकल इनफार्मेशन पोर्टल है जिसके माध्यम से आप, देव भूमि उत्तराखंड के मुख्य जिलों जैसे देहरादून, गढ़वाल , कुमायूं, उधमसिंह नगर , सितारगंज तथा दूरस्थ ग्रामीण इलाकों के बारे में सभी महत्वपूर्ण लोकल जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।