Join Group☝️

उत्तराखंड के इन गांवों में शादी की परम्परा में हुए बड़े बदलाव , अब महिलाएं नहीं जा सकेंगी बारात में, उलघंन पर होगा 5 हजार का जुर्माना

उच्च हिमालयी क्षेत्र और पिथौड़ागढ़  के कई गाँव में शादी विवाह से जुडी  एक बड़ी खबर सामने आयी है  । पिथौरागढ़ के धारचूला क्षेत्र और चीन सीमा से लगे गांवों में शादी के नियमों में बड़ा बदलाव किया गया है.

जिसमे से एक के अनुसार अब उच्च हिमालयी क्षेत्र की पांच पंचायतों में होने वाली शादियों में महिलाओं को बारातों में शामिल होने की मनाही हो गयी है ।  इसके अलावा और भी कड़े नियम लागू किए गए हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार नए नियम लागू करने का मकसद अपनी परंपराओं को बचाए रखना है

उत्तराखंड के इन गांवों में शादी की परम्परा में हुए बड़े बदलाव , अब महिलाएं नहीं जा सकेंगी बारात में, उलघंन पर होगा 5 हजार का जुर्माना

 

उच्च हिमालयी क्षेत्र की पांच ग्राम पंचायतों में जो भी शादियां होंगी, वहां महिला बाराती नजर नही आएंगी, और भी कई कड़े नियम लागू किए गए हैं।यदि यहाँ के लोगों द्वारा  नियमों का पालन नहीं करते हैं, तो आप पर 5000 तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।

पहाड़ी शादी में बारातियों का डांस । Baraati Dance in Pahadi Shaadi ।Chholiya Dance - YouTube

चीन सीमा के पास नबी गांव के कुछ ग्रामीण इस बात को लेकर चिंतित हैं कि इन दिनों शादियां नए तरीके से  हो रही हैं। अधिकांश शादियों में अब गांव के बाहर की परंपराएं शामिल हैं, जो स्थानीय रीती रिवाज़ ख़तम होते चले जा रहे हैं ।

No photo description available.

अब यहाँ होने वाले शादी समारोह  के लिए नई नियमावली जारी की गई है। अब शादी समारोहों के लिए नए नियम जारी किए गए हैं। इन नियमों के तहत शादियों में देश के बाहर की किसी भी शराब की इजाजत नहीं होगी, सिर्फ स्थानीय गैरा च्यक्ति  का ही इस्तेमाल किया जाएगा

पहाड़ी शादी - बारातियों का डांस | Band Baja | Baraati Dance in Shaadi | Pahadi Shaadi - YouTube

हल्दी समारोह अब नहीं किया जाइएगा ।  लड़की की शादी में दुल्हन का पिता ही दूल्हे को पगड़ी पहनाएगा और दूल्हे की तरफ से एक पगड़ी दुल्हन के पिता को दी जाएगी। मेहंदी की रस्म सिर्फ लड़की पक्ष द्वारा ही की जाएगी। नए नियमों के तहत विवाह कार्यक्रम में लंच का समय दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक ही रहेगा।

पहाड़ी शादी - बारातियों का डांस | Band Baja | Baraati Dance in Shaadi | Pahadi Shaadi - YouTube

पांचों गांवों में शादी के पहले दिन शाम छह बजे से चार घंटे म्यूजिक सिस्टम चलेगा और फिर तीसरे दिन सिर्फ दो घंटे बजेगा। बारात के दिन चामे रिस्म्या गांव की महिलाओं को ही चाय और पानी के लिए बुलाया जा सकता है।

पहाड़ी शादी में बाराती और छोलिया नाचते गाते हुए । Baraati Dance in Pahadi Shaadi । Chholiya Dance - YouTube

शादी के लिए मांग समारोह के दौरान केवल दुल्हन की बहनों, दोस्तों और दूल्हे के भाइयों और दोस्तों को ही शामिल होने की अनुमति होगी।नए नियमों में कहा गया है कि अलग-अलग समितियों (ग्राम सभा, महिला सभा, नव युवक संघ, नव युवती संघ, व्यास ऋषि मेला समिति, ग्राम पीठासीन देवता व अन्य समितियों) को दी जाने वाली राशि निर्धारित की गई है.

पहाड़ी शादी में बाराती और छोलिया नाचते गाते हुए । Baraati Dance in Pahadi Shaadi । Chholiya Dance - YouTube

बैठक में निर्णय लिया गया कि नियमों का पालन नहीं करने वालों पर साढ़े पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

सामूहिकता की मिसाल है पहाड़ी शादी - Kafal Tree

नबी के ग्रामीणों द्वारा नियमों में कुछ बदलाव किए जाने के बाद गुंजी, नापालचुय, रोंगकोंग और कुटी ग्राम पंचायतों ने अपनी स्वीकृति दे दी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
दून की शैफाली ने होम डेकॉर को दिया नया रूप , देखकर बन जायगा आपका दिन उत्तराखंड के इस अद्भुत मंदिर में पातालमुखी हैं शिवलिंग,यही माता सती ने त्यागे थे प्राण इस मतलबी दुनिया में ये बैंक भर रहा है भूखे,असहाय लोगों का पेट , हल्दवानी के इस बैंक को आप भी कीजिये सलाम सिलबट्टे को पहाड़ी महिलाओं ने बनाया स्वरोजगार , दिया खाने में देशी स्वाद का तड़का श्री नानकमत्ता साहिब गुरुद्वारा है सिखों का तीसरा सबसे पवित्र तीर्थ स्थल, जानिए क्या इसकी खासियत